Home खास खबर नर्रा स्कूल का हुआ चयन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के विशेष...

नर्रा स्कूल का हुआ चयन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के विशेष मेंटरशिप के लिए

छत्तीसगढ में महासमुंद जिले का यह एकमात्र विद्यालय है जिसे इस कार्ययोजना से संबद्ध किया गया

44
0

Mahasamund:-नर्रा के कुलदीप निगम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने विशेष मेंटरशिप हेतु चयन किया है। जिसके तहत देश के छः हजार स्कूलों को केंद्र की शिक्षा मंत्रालय द्वारा इन्नोवेशन के लिए तकनीकी और एथिकल मार्गदर्शन और सहयोग प्रदान करने के लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद नई दिल्ली (AICTE)से संबद्ध उच्च शिक्षा संस्थानों को अधिकृत किया है। 36गढ में महासमुंद जिले का यह एकमात्र विद्यालय है जिसे इस कार्ययोजना से संबद्ध किया गया और रायपुर स्थित एमिटी यूनिवर्सिटी के इंजीनियरिंग एवं तकनीकी विभाग से इसे संलग्न किया है।

संभावित उपायों पर होगी चर्चा

इस विश्वविद्यालय के इन्नोवेशन सेल के अधिकारी अतिशीघ्र विद्यालय का दौरा कर यहां के छात्रों और शिक्षकों से चर्चा करेंगे। इसमें ग्रामीण विद्यालय में अध्ययनरत छात्रों की प्रतिभा को मौका देने के सभी संभावित उपायों पर चर्चा होगी।
विगत दिनों विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग और तकनीकी विभाग के डीन प्रो. सुरेन्द्र रह्मताकर, विश्वविद्यालय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के विशेषज्ञ प्रो पटनायक ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नर्रा के प्राचार्य और अटल टिंकरिग के प्रभारी सुबोध कुमार तिवारी से वर्चुअल बैठक कर विद्यालय और एमिटी यूनिवर्सिटी के बीच तकनीकी एवं अन्य सहयोग के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा की गई।

सभी औपचारिकताएं पूरी करने के निर्देश

यूनिवर्सिटी के अधिकारी विद्यालय में छात्रों एवं शिक्षकों से चर्चा कर कार्ययोजना बनाकर समाज के लिए उपयोगी इन्नोवेशन पर कार्य करने पर जोर दिया है। विश्वविद्यालय के विशेषज्ञ स्कूली छात्रों के आईडिया को प्रोटोटाइप के ढालने के लिए जरूरी सभी प्रकार के सहयोग करेंगे। इससे ग्रामीण स्कूल के छात्रों के आईडिया एक चालित मॉडल के रूप में आ सकेंगे। AICTE नई दिल्ली के इंस्टीट्यूशन इन्नोवेशन सेल के असिस्टेंट डायरेक्टर अभिषेक रंजन ने एक सितम्बर से पूर्व सभी औपचारिकताएं पूरी करने के निर्देश दिए हैं। जिससे कि एक सितम्बर से शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी किए जा रहे निर्देशों के अनुसार कार्य प्रारम्भ किया जा सके।

प्रसिद्ध लघु कथाकार महेश राजा की पढ़िए लघुकथा

नर्रा स्कूल का हुआ चयन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के विशेष मेंटरशिप के लिए

उच्च शिक्षा संस्थान से जुड़ने वाला जिला का पहला विद्यालय

इस विद्यालय के लिए गर्व की बात कि केंद्रीय स्तर पर किसी उच्च शिक्षा संस्थान से आधिकारिक रूप से जुड़ने वाला जिले का पहला विद्यालय है। इसके पहले भी विद्यालय जिले में एकमात्र स्कूल रहा जहा के पचास छात्रों ने आईआईटी बॉम्बे के सहयोग से सोलर लैंप असेंबल कार्यशाला आयोजित कर, सोलर लैंप असेंबल करना सीखा। लॉकडाउन के समय यह के विद्यार्थियों ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक का ऑनलाइन कोर्स किया तथा भारत सरकार द्वारा आयोजित रिस्पांसिबल एआई फॉर यूथ कॉम्पटीशन में पूरे राज्य से अंतिम टॉप 20 में चयनित होने वाला महासमुंद जिला ही नहीं वरन छत्तीसगढ़ राज्य का एकमात्र विद्यालय रहा।

विज्ञान हब के रूप में उभरने की संभावना

अध्यक्ष शाला प्रबंधन एवं विकास समिति नर्रा के विजय शंकर निगम का कहना है कि विज्ञान हब के रूप में उभरने की पूरी संभावना वाला सरकारी स्कूल है, सुविधायुक्त प्रयोगशाला भवन नहीं होने, तथा गणित भौतिक रसायन जैसे विषय के व्याख्याताओं की कमी के बावजूद विद्यालय के छात्र छात्राओं का प्रदर्शन इंगित करता है कि ग्रामीण छात्रों में भी प्रतिभा सम्पन्नता होती हैं, उनकी प्रतिभा को मंच और अवसर मिले तो वे देश में शीर्ष स्थान पर भी आ सकते हैं।

नर्रा स्कूल का हुआ चयन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के विशेष मेंटरशिप के लिए
विजय शंकर निगम

हमसे जुड़े :

आपके लिए /छत्तीसगढ़/महासमुन्द

भाषा बदले »