Home छत्तीसगढ़ कीर्ति आजाद पूर्व क्रिकेटर ने देखा सिरपुर,अब गांव से भी निकल रहे...

कीर्ति आजाद पूर्व क्रिकेटर ने देखा सिरपुर,अब गांव से भी निकल रहे हैं अच्छे क्रिकेटर

वे इतिहास के भी विद्यार्थी रहे हैं, इस वजह से उन्हें पुरातात्विक स्थलों से लगाव है

महासमुंद-कीर्ति आजाद पूर्व क्रिकेटर ने देखा सिरपुर,अब गांव से भी निकल रहे हैं अच्छे क्रिकेटर उक्त बाते शुक्रवार को  आयोजित प्रेसवार्ता में आजाद ने कहा । वे सिरपुर प्रवास में आए हुए थे ,उन्होंने आगे कहा कि भारतीय टीम वर्तमान में सुरक्षित हाथों में हैं। पहले बड़े शहरों से खिलाड़ी ही आते थे, लेकिन अब गांव-गांव से भी खिलाड़ी निकल रहे हैं और प्रतिभाएं सामने आ रही हैं। अच्छे क्रिकेटर निकल रहे हैं। जिससे टीम मजबूत है। अब देश में सभी खेल को प्रोत्साहन मिल रहा है।

लोहे की छड युवक के हाथ व् जांघ में घुसा सांकरा में छत से गिरने के कारण

पूर्व सांसद व पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने कहा कि सिरपुर के बारे में काफी कुछ सुना था, इस वजह से इसे देखने चाहते थे। यहां एक मात्र लक्ष्मण मंदिर है और पुरातत्व के दृष्टि से काफी अच्छा है। इस वजह से इसे देखने व जानने की इच्छा हुई। उन्होंने कहा कि वे देखना चाहते हैं कि हमारे पुरखों का रहन, सहन कितना अच्छा था। पुराने जमाने में किस तरह के आंगन, दरवाजा होते थे यह देखने को मिलेगा।

‘हेलिना’ और ‘ध्रुवस्त्र’ एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल सिस्टम्स का सफल परीक्षण

कीर्ति आजाद पूर्व क्रिकेटर ने देखा सिरपुर,अब गांव से भी निकल रहे हैं अच्छे क्रिकेटर

डॉ महंत-खेल आपसी सद्भावना, भाईचारे,परस्पर स्नेह व् बधुत्व बढ़ाने का प्रभावी माध्यम

सिरपुर के पर्यटन को भी बढ़ावा मिलना चाहिए। वे पहले भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के शुभारंभ और एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि वे इतिहास के भी विद्यार्थी रहे हैं, इस वजह से उन्हें पुरातात्विक स्थलों से लगाव है और उन्हें देखने के लिए जाते रहते हैं। देश का पहला मन्दिर जो ईटो से बना लक्ष्मण मन्दिर एकमात्र हैं, इस वजह से इसे देखने की इच्छा थी।

10 बच्चे छत्तीसगढ़ के राष्ट्रीय स्तर के डिजिटल ओलम्पियाड प्रावीण्य सूची में

पूर्व सांसद व पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने कहा कि खेल की तरह ही राजनीति में भी खेलभावना होनी चाहिए। इससे रानीति भी अच्छी होगी। उन्होंने कहा कि राम राज आने की बात कही जा रही है, लेकिन राम राज्य में सबकी बराबरी होती है।

नए कृषि कानून में खामियां हैं, इसी वजह से किसान डटे हुए हैं

और लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। बिहार में तो मंडियां ही खत्म हो गई हैं,

किसानों का मक्का,धान खरीदने के लिए कोई नहीं है। किसानों का धान

700 व 800 रुपए प्रति क्विंटल में बिक रहा है। महंगाई की वजह से

भी खेती किसानी की लागत भी बढ़ती जा रही है। किसान मायूस है। 

हमसे जुड़े :–https://dailynewsservices.com/

Translate »