Home छत्तीसगढ़ धान की स्वर्णा वेरायटी से अब किसानों का हो रहा है मोह...

धान की स्वर्णा वेरायटी से अब किसानों का हो रहा है मोह भंग-भाजपा नेता नरेंद्र चन्द्राकर

सहकारी समितियो ने राइस मिलर्स से सेटिंग कर सरना धान को मोटे किस्म के धान के रूप में कम दाम में खरीदा जा रहा है।

बागबाहरा-छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक स्वर्णा धान का उत्पादन होता है।धान की जिस वेरायटी ने किसानों को मालामाल भी किया अब वहीं उन्हें इसकी ख़ाहिश में कमी आ रही है। शुरुवात में किसानों को इसके विपुल उत्पादन के कारण किसानों ने सरना को अपनाया पर हालात बदले औऱ सहकारी समितियों ने राइस मिलर्स से सांठगांठ कर इस वेरायटी को मोटा किस्म के धान के रूप में कम दाम में खरीदे जाने के कारण अब उनका मोह भंग हो गया है।

खाद के स्टॉक में मिली गड़बड़ी, समिति प्रबंधकों को नोटिस जारी

भाजपा नेता पूर्व जनपद अध्यक्ष नरेन्द्र चन्द्राकर ने कहा कि आज स्वर्णा (सरना) धान की सर्वाधिक माँग है ,अधिकाँश उपभोक्ता इसे पसन्द करते हैं, इसलिए हमेशा बाजार में इसकी मांग बनी रहती है।जिसके कारण और अन्य धानो से इसमे चावल एवरेज ज्यादा होने तथा अरवा और उसना दोनों चावल बनने से दोनों राइस मिल वालों के लिए प्राथमिकता का धान हैं ।

मध्य प्रदेश, 36 गढ़ व् अन्य राज्यों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल

fail foto
sanketik fail foto

तुमगांव गड़ाघाट पुल में धान से भरी ट्रक कार के उपर पलटी 3 की मौत 2 घायल

इसी कारण से सहकारी समितियों में इस धान की अलग ग्रेडिंग करने का शासकीय निर्देश भी है ।परन्तु कुछ समितियों में इसे मोटा अनाज मे ग्रेडिंग करके बाद मे राइस मिल वालों सेँटिग कर उन्हें मोटा किस्म के रूप में सप्लाई करते हैं । फायदा होने से मिल वाले भी स्वीकार कर लेते है ।

शासन, राइस मिल, सहित सबकी पसंद और उपभोक्ताओं के लिए भी इस धान की चावल को समुचित रूप से उपलब्ध कराने तथा क्वालिटी मे किसान और ज्यादा ध्यान दे,इस बिंदु पर शासन को ध्यान देना चाहिए और किसानों को स्वर्णा( सरना) धान उत्पादन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 20 /रू प्रति किवटल बोनस देना चाहिए ।

Translate »