Home देश मध्य प्रदेश, 36 गढ़ व् अन्य राज्यों में मानसून के आगे बढ़ने...

मध्य प्रदेश, 36 गढ़ व् अन्य राज्यों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल

पूर्व-पश्चिम में कम दबाव का क्षेत्र बने रहने की संभावना है,अगले 3-4 दिनों के दौरान ओडिशा, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, तेलंगाना में भारी से बहुत भारी वर्षा की आशंका है

दिल्ली-भारत मौसम विज्ञान विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान मध्य प्रदेश के कुछ और हिस्सों, छत्तीसगढ़ शेष हिस्सों, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल हैं।

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी के शेष हिस्सों, ओडिशा के कुछ और भागो, पश्चिम बंगाल के अधिकांश हिस्सों और झारखंड तथा बिहार के कुछ हिस्सों में में आगे बढ़ गया है। मॉनसून की उत्तरी सीमा (एनएलएम) का 20.5°उत्तरी/60° पूर्वी अक्षांश और 27°उत्तरी/85.0°पूर्वी अक्षांश के बीच दीव, सूरत, नंदुरबार, रायसेन, दमोह, उमरिया, पेंड्रा रोड, बोलांगीर, भुवनेश्वर, बारीपदा, पुरुलिया, धनबाद, दरभंगा से गुजरना जारी है।

बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी और पश्चिम बंगाल तथा उत्तरी ओडिशा के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर अब निम्न दबाव का क्षेत्र स्थित है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुके हुए मध्य-क्षोभमंडल स्तर तक फैला हुआ है। अगले 2-3 दिनों के दौरान इसके और अधिक व्यापक होने और पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर सम्पूर्ण ओडिशा, झारखंड और उत्तरी छत्तीसगढ़ में बढ़ने की संभावना है।

मध्य प्रदेश में धार्मिक स्वतंत्रता सहित 12 अध्यादेश पर लगी कैबिनेट की मुहर

मध्य प्रदेश, 36 गढ़ व् अन्य राज्यों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल

निचले क्षोभमंडल स्तरों पर दक्षिण पंजाब से बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी और पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर निम्न दबाव का क्षेत्र पूर्व-पश्चिम के केंद्र तक जाती है। अगले 3-4 दिनों के दौरान पूर्व-पश्चिम में कम दबाव का क्षेत्र बने रहने की संभावना है। इसके अलावा, पश्चिमी तट पर निचले स्तरों पर तेज दक्षिण-पश्चिमी हवाएँ चल रही हैं और पश्चिमी तट पर एक अपतटीय कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। यह स्थिति अगले 4-5 दिनों तक बनी रहने की संभावना है।

रुस से भारत आएगा कोरोना से निधन हुए का पार्थिव शरीर,MP के श्रम मंत्री के प्रयास से

इसके प्रभाव से अगले 3-4 दिनों के दौरान ओडिशा, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, तेलंगाना में भारी से बहुत भारी वर्षा की आशंका है। अगले 4-5 दिनों के दौरान पश्चिम बंगाल और सिक्किम, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भारी वर्षा के साथ व्यापक रूप से भीषण वर्षा हो सकती है।

अगले 24 घंटों के दौरान मध्य प्रदेश के कुछ और हिस्सों, छत्तीसगढ़ शेष हिस्सों, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल हैं।  
fail foto

अगले 5 दिनों के दौरान महाराष्ट्र और गोवा और कर्नाटक के तटीय और आसपास के घाट जिलों में भारी से बहुत भारी वर्षा के साथ भीषण वर्षा हो सकती है। 12 से 15 जून के दौरान कोंकण और गोवा में और 14 और 15 जून, 2021 को मध्य महाराष्ट्र में अलग-अलग स्थानो पर अत्यधिक भारी वर्षा की भी बहुत संभावना है। 12 से 15 तारीख के दौरान केरल में अलग-अलग जगहो पर भी भारी वर्षा होने की सम्भावना है।

ब्लैक राइस पौष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं,दंतेवाड़ा के चार ब्लाक में हो रहा है उत्पादन

ओडिशा, झारखंड, बिहार, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तर-पश्चिम भारतीय हिमालय पर मध्यम से भीषण रूप से गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है और अगले 4-5 दिनों के दौरान बिजली गिरने की आशंका और तेज हवाएं चलने की सम्भावना है। इससे लोगों और बाहर काम करने वाले जानवरों को हानि हो सकती है।

हमसे जुड़े :–https://dailynewsservices.com/