मानव जीवन का सबसे महत्वपूर्ण चीज संस्कार है।विद्यार्थी सबसे पहले लक्ष्य बनाना सीखें, उसके उपरांत अपने आत्मबल एवं कठोर मेहनत से सफलता प्राप्त कर सकते है।अनुशासन में रहकर किसी भी प्रतियोगिता परीक्षाओं के बेहतर परिणाम लाया जा सकता है।ईमानदारी एवं लगन पूर्वक कार्य करने से ही किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। 

महासमुन्द-कलेक्टर  सुनील कुमार जैन के मार्गदर्शन एवं जिला प्रशासन की पहल पर विद्यार्थियों के लिए जिले में छत्तीसगढ़ राज्य लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा का निःशुल्क प्रशिक्षण आज 01 नवम्बर 2019 से जिला ग्रन्थालय भवन, मिनी स्टेडियम परिसर, महासमुन्द में शुभारंभ किया गया। जिसका उद्देश्य प्रतिभावान छात्राओं को निःशुल्क कोचिंग प्रदान करना है। जिला प्रशासन द्वारा संचालित नवकिरण एकेडमी में राज्य लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा की कक्षाएं प्रतिदिन आयोजित की जाएगी। प्रशासनिक अधिकारी एवं प्रतियोगिता परीक्षाओं में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को व्याख्यान के लिए समय-समय पर आमंत्रित किया जाएगा। विद्यार्थियों की संख्या के आधार पर बैच बनाकर प्रशिक्षण दो पालियों में लगाया जाएगा।

इस अवसर पर राष्ट्रीय महिला आयोग कि सदस्य  कमलेश गौतम ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि मानव जीवन का सबसे महत्वपूर्ण चीज संस्कार है। संस्कार हमें महान बनाता है। यह बचपन से ही हम अपने घर-परिवार एवं आस-पास के लोगों से सीखते है। हम अपने संस्कार के माध्यम से कड़ी मेहनत कर जीवन में आगे बढ़ सकते है। जीवन में संघर्ष आते-जाते रहते है। संघर्ष से ही विजयी होकर हम सफलता को प्राप्त कर सकतें है।

महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर ने कहा कि विद्यार्थी सबसे पहले लक्ष्य बनाना सीखें, उसके उपरांत अपने आत्मबल एवं कठोर मेहनत से सफलता प्राप्त कर सकते है। किसी भी व्यक्ति को लक्ष्य हमेशा बड़ा बनाकर चलना चाहिए और उसे प्राप्त करने के लिए लगन के साथ मेहनत करना चाहिए। मेहनत और किस्मत दोनों ही अलग चीज है। किस्मत आपको धोखा दे सकती है लेकिन लगन के साथ किया गया मेहनत कभी भी धोखा नही देगी। विद्यार्थियों को हमेशा गुरूजनों के मार्गदर्शन का पालन करना चाहिए।


कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने विद्यार्थियों से कहा कि अनुशासन में रहकर किसी भी प्रतियोगिता परीक्षाओं के बेहतर परिणाम लाया जा सकता है। जिला प्रशासन द्वारा संचालित नव-किरण प्रतियोगिता परीक्षा के लिए नियमित रूप से कक्षाएं आरंभ की गई है, जिसका मुख्य उद्देश्य यहां के विद्यार्थी प्रशासनिक अधिकारी बन सके, इसके लिए उन्हें नियमित रूप से कक्षाओं में समय पर आना होगा एवं शिक्षकों द्वारा पढ़ाए गए विषयों पर विशेष रूप से ध्यान दें और स्वयं भी कड़ी मेहनत करे। विद्यार्थियों के प्रतियोगिता परीक्षाओं में बेहतर परिणाम लाने के लिए प्रति सप्ताह टेस्ट, सामूहिक परिचर्चा का आयोजन भी किया जाएगा।

पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र कुमार शुक्ल ने कहा कि ईमानदारी एवं लगन पूर्वक कार्य करने से ही किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों को पढ़ाई एवं लक्ष्य को हासिल करने के लिए ईमानदार रहने एवं अपने आप को मजबूत तथा स्वयं का विकास करने की बात कही। उन्होंने विद्यार्थियों को सफलता प्राप्त करने के लिए कठिन विषयों पर अधिक मेहनत करने पर अधिक जोर देने को कहा। प्रारंभिक परीक्षा के साथ ही मुख्य परीक्षाओं की भी तैयारी करने की सलाह दी। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.रवि मित्तल ने विद्यार्थियों को इस अवसर का भरपूर सदुपयोग करते हुए नियमित रूप से प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए नोट्स तैयार करने को कहा। जिले से आए विद्यार्थियों ने बड़े ही उत्साह के साथ प्रशासनिक अधिकारियों को प्रश्न पूछकर शंकाओं का समाधान किया। इस अवसर पर अपर कलेक्टर आलोक पाण्डेय, शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ.ए.करीम, जिला शिक्षा अधिकारी  बी.एल.कुर्रे सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारीगण उपस्थित थे।

नव-किरण अकादमी का शुभारंभ, छात्रों को मिलेगी निःशुल्क कोचिंग की सुविधा

जिला प्रशासन की पहल पर नव-किरण अकादमी द्वारा जिले के ऐसे युवा जो राज्य लोक सेवा आयोग की प्रतियोगिता परीक्षा में शामिल होना चाहते है, उनके सपनों को साकार करने के उद्देश्य से निःशुल्क.नवकिरण एकेडमी के आयोजन हेतु समिति का गठन किया गया है। आज नव-किरण अकादमी का शुभारंभ किय गया। इस संबंध में कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने बताया कि इस संस्थान का संचालन पूर्णतः प्रोफेशनल तरीके से किया जाएगा और अनुशासन पर विशेष जोर रहेगा। कोचिंग कक्षाएं दो पाली में लगेंगी, पहली पाली सुबह 7ः00 बजे से 10ः00 बजे एवं दूसरी पाली शाम 4ः00 बजे से शाम 7ः00 तक लगेंगी।

भविष्य में पीएससी परीक्षा के साथ अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं की भी करायी जाएगी तैयारी

कलेक्टर ने बताया कि वर्तमान में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी के लिए छात्रों को कोचिंग दी जाएगी। लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा फरवरी माह तक संभावित है, आगे मुख्य परीक्षा की भी तैयारी करायी जाएगी। इसके अलावा अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारियों के लिए भी कोचिंग की व्यवस्था का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोचिंग कक्षाओं में प्रत्येक सप्ताह छात्रों का टेस्ट लिया जाएगा और उनके परफोरमेंस का परीक्षण किया जाएगा। इसके अलावा दूसरे सप्ताह में ग्रुप डिस्कशन कराया जाएगा, जिसमें सभी छात्र सामूहिक तथा व्यक्तिगत रूप से अपनी सहभागिता सुनिश्चित करेंगे।

प्रतियोगिता परीक्षा के नोट्स भी मिलेंगे

कलेक्टर जैन ने बताया कि राज्य लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा के तैयारियों के लिए विभिन्न विषयों के नोट्स संबंधित शिक्षकों द्वारा तैयार किए जाएंगे, जिसे वाट्सएप्प ग्रुप पर उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि छात्र इस सुविधा का पूरा लाभ उठाएं, पूर्ण समर्पित होकर अध्ययन करें। इन कक्षाओं में स्नातक अंतिम वर्ष के छात्रों के साथ स्नातक उत्तीर्ण छात्र शामिल किए गए है और उन्हें कोचिंग की सुविधा दी जा रही है। प्रत्येक छात्र का रिकार्ड रखा जाएगा और उसके परफोरमेंस पर सतत् नजर रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि अकादमी की कोचिंग कक्षाओं में छात्र सतत् उपस्थित रहने का प्रयास करें। बिना सूचना के लगातार पांच दिन अनुपस्थित रहने पर कोचिंग कक्षा से बाहर कर दिया जाएगा। इसके अलावा कक्षाओं के दौरान मोबाईल का उपयोग प्रतिबंधित किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here