Home Uncategorized बाढ़ से हुए क्षति का आंकलन करें ताकि प्रभावित लोगों को राहत...

बाढ़ से हुए क्षति का आंकलन करें ताकि प्रभावित लोगों को राहत दी जा सके-CM चौहान

वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए चलाए जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों की जानकारी ली

भोपाल-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को हवाई दौरा कर ग्वालियर एवं चंबल संभाग में बाढ़ से प्रभावित चार दर्जन से अधिक गाँवों का जायजा लिया। इसके बाद ग्वालियर विमानतल पर वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए चलाए जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बाढ़ का पानी घटते ही जल्द से जल्द क्षति का आंकलन करें, जिससे प्रभावित लोगों को राहत दी जा सके। उन्होंने अति वृष्टि एवं बाढ़ से अधोसंरचना को हुए नुकसान का आंकलन करने के निर्देश भी दिए। साथ ही कहा कि यदि राहत और बचाव कार्यों के लिये किसी मदद की जरूरत हो तो बताएँ, सरकार द्वारा इसकी पूर्ति की जायेगी।

बाढ़ व् भूस्खलन के दौरान बचाव और राहत अभियान का संचालन कर रहा है BRO

मुख्यमंत्री बुधवार को ग्वालियर एवं चंबल संभाग के बाढ़ प्रभावित गाँवों का जायजा लेने के लिये राजकीय विमान से राजमाता विजयाराजे सिंधिया विमानतल पहुँचे। यहाँ से मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर से ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, मुरैना और श्योपुर जिले के बाढ़ प्रभावित लगभग चार दर्जन गाँवों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हालांकि सिंध, पार्वती एवं कूनों नदी का जल स्तर घटा है। फिर भी जल भराव एवं बाढ़ का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसलिए विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। लोगों को फिर से निचले क्षेत्र में न जाने दें। साथ ही जिन घरों के आस-पास पिछले दिनों से पानी भरा है उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जाएँ।

बाढ़ से हुए क्षति का आंकलन करें ताकि प्रभावित लोगों को राहत दी जा सके-CM चौहान

उन्होंने आगे कहा कि राहत केम्पों में अस्थायी रूप से जिन लोगों का पुनर्वास किया गया है वहाँ पर भोजन-पानी और आवास इत्यादि की बेहतर से बेहतर व्यवस्था रहे। भारी बारिश से आई इस संकट की घड़ी में प्रदेश सरकार बाढ़ प्रभावित लोगों के साथ मजबूती से खड़ी है। सरकार क्षति का आंकलन मिलते ही प्रभावित लोगों को राजस्व पुस्तक परिपत्र (आरबीसी 6 – 4) के तहत राहत देने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। साथ ही नदियों में आई बाढ़ एवं भारी बारिश से क्षतिग्रस्त पुल-पुलियों एवं अन्य अधोसंरचना को दुरूस्त करने में भी सरकार धन की कमी नहीं आने देगी।

बाढ़ से हुए क्षति का आंकलन करें ताकि प्रभावित लोगों को राहत दी जा सके-CM चौहान

3.37 लाख की लागत से किसान उपभोक्ता बाजार के साथ बनेगा व्यवसायिक परिसर

मुख्यमंत्री द्वारा हवाई दौरे से ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, मुरैना और श्योपुर जिले के लगभग चार दर्जन गाँवों का जायजा लिया।

इनमें सिलपरी, हर्रई, बड़खड़ी, नरवर, मगरौनी, बैराड़, ज्वालापुर, मेवाड़ा,

बहरावदा, ठेवला, गाजीगढ़, ककरूआ, धोबिनी, देवपुर, अहिल्यापुर, बरोद,

बरखेड़ा, नरैया खेड़ी, सिलपुरा, बुधोनी, बघोदा, हुसैनपुर, जौराई, आनंदपुर,

जरियाकलाँ, बामनपुर, मादीखेड़ा, गोरा, मोहारा, कोलारस,

पनवाड़ी, देहरदा, डागोर इत्यादि ग्राम शामिल हैं।

हमसे जुड़े :–https://dailynewsservices.com/

Translate »