Home छत्तीसगढ़ बलौदा बाज़ार झारखंड में बंधक बनाये गये श्रमिक दम्पति को छुड़ाया जिला प्रशासन ने

झारखंड में बंधक बनाये गये श्रमिक दम्पति को छुड़ाया जिला प्रशासन ने

ईंट-भट्ठा में कमाने खाने झारखंड गए थे,ठेकेदार ने उन्हें आने नहीं दिया व् मज़दूरी भी नहीं

बलौदाबाजार-झारखंड राज्य के लोहारदग्गा जिले की सरनाटोली इंटभट्टा में बंधक बनाए गए जिले की श्रमिक दंपत्ति को सकुशल छुड़ा लिया गया है। जिला प्रशासन की विशेष पहल पर श्रमिकों को वापस लाकर आज उनके गांव धोबनीडीह, बिलाईगढ़ में क्वारंटाइन कर दिया गया है। कोरोना के भयजनक माहौल और बंधक के हालात से मुक्ति मिलने पर श्रमिक एवं उनके परिवार जनों में खुशी का माहौल है।

जिले के श्रम पदाधिकारी तेजस चन्द्राकर ने आज यहां बताया कि मामला बिलाईगढ़ तहसील के गांव धोबनीडीह का है। आवेदक रामलाल महिलाने ने जिला कलेक्टर को आवेदन देकर अपने पुत्र बाबूलाल और पुत्रवधु राधाबाई को बंधक के हालात से छुटकारा दिलाकर सकुशल घर वापसी के लिए निवेदन किया।

उन्होंने बताया कि उनके पुत्र और पुत्रवधु ईंट-भट्ठा में कमाने खाने झारखंड गए थे। लोहरदग्गा जिले के सरनाटोली में निजी ठेकेदार रविकुमार के यहां ईंट बनाने का काम कर रहे थे। इस बीच कोरोना संकट आन पड़ा। वे लोग अपने ग्राम धोबनी डीह आना चाहते थे। लेकिन ठेकेदार ने उन्हें आने नहीं दिया। मज़दूरी भी नहीं दिया और प्रताड़ित करने लगा। उन्होंने अपने परिजनों के जरिये जिला प्रशासन बलौदाबाजार तक सूचना पहुँचाई।

कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने मामले को गंभीरतापूर्वक सुलझाया। उन्होंने लोहरदग्गा के कलेक्टर से सीधे चर्चा कर श्रमिक दम्पति को छुड़वाया और उन्हीं के वाहन से जिला मुख्यालय बलौदाबाजार तक छोड़ने का अनुरोध किया। लोहरदग्गा प्रशासन की टीम ने मंगलवार की रात छुड़ाये गए श्रमिक दम्पति-बाबूलाल एवं राधाबाई महिलाने को ले आकर रात में ही जिला प्रशासन एवं श्रम विभाग को सौंप दिया। श्रम विभाग ने लोहारदगा प्रशासन को महत्वपूर्ण सहयोग के लिए आभार प्रकट किया है। छुड़ाये गए श्रमिक दम्पति को उनके ग्राम धोबनीडीह ले जाकर क्वारंटाइन कर दिया गया है। सरपंच और उनके परिजनों को इनका ख्याल रखने कहा गया है।

हमसे जुड़े:-***

 WatsApp https:FLvSyB0oXmBFwtfzuJl5gU

कार की तलाशी के दौरान मिली रकम 1 करोड़ 12 लाख 99 हजार 200 रुपये

Translate »