Home छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर के तहत मोहल्ला कक्षा सेतु अभियान के संबंध में...

पढ़ई तुंहर दुआर के तहत मोहल्ला कक्षा सेतु अभियान के संबंध में राज्य स्तरीय वेबीनार

एमके शुक्ला-रायपुर- पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम के अंतर्गत मोहल्ला कक्षा के संचालन सेतु अभियान एवं आकलन के संबंध में मार्गदर्शन देने के लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (SCERT) द्वारा में राज्य स्तरीय वेबीनार का आयोजन किया गया है।

प्रमुख सचिव डॉ आलोक शुक्ला सचिव डॉ कमलप्रीत सिंह संचालक दी राहुल वेंकट के निर्देशन में आयोजित इस राज्य स्तरीय मिनाल में 50,000 से अधिक शिक्षकों ने भाग लिया इस विभिन्न आर में एडिशनल डायरेक्टर डॉ योगेश शिवहरे डिप्टी डायरेक्टर उमेश कुमार साहू असिस्टेंट डायरेक्टर समग्र सुधीश असिस्टेंट डायरेक्टर राज्य साक्षरता मिशन  प्रशांत पांडे एससीआरटी के डॉक्टर विद्या चंद्राकर , विद्या डांगी व प्रकोष्ठ प्रभारी देकेश्वर वर्मा सहित अन्य लोगों ने भाग लिया।

वेबीनार के साथ खेलो इंडिया ई-पाठशाला का उद्घाटन

पढ़ई तुंहर दुआर के तहत मोहल्ला कक्षा सेतु अभियान के संबंध में राज्य स्तरीय वेबीनार

अतिरिक्ति संचालक (SCERT) योगेश शिवहरे सेतु पाठ्यक्रम में चर्चा करते हुए मोहल्ला क्लास एक बेहतरीन उपाय है इसमें बच्चों प्रतिदिन उपस्थिति कि जानकारी ले सकते है। ऑनलाइन कक्षा में Time Table के अनुरूप होना चाहिए। कक्षा 1-8 के बच्चों के लिये सेतु अभियान के माध्यम से बच्चों को पूर्व ज्ञान दिये जाना तथा 30 दिवसीय है और इसे 1 महीने में पूरा करना अनिवार्य है। आकलन के बारे में बताया की आकलन का अभिलेख सुरक्षित रखने पर जोर दिया गया। क्योकि अंक को पोर्टल में दर्ज करना होगा।

जो बच्चे फेल हो उसे ग्रेड के आधार पर उसके स्तर का आकलन करना है। 13जुलाई को 32 हजार मोहल्ला क्लास बनाये तथा 6 लाख बच्चे जुड़े है। डॉ.एम.सुधीश समग्र शिक्षा सहायक संचालक इन्होंने बताया कि मोहल्ला क्लास के संचालन के लिए योजना बनाना। कोरोना काल प्रोटोकाल का पालन करना मोहल्ला क्लास शुरू करने के लिए कहा गया। बच्चों को कक्षा में नियमित आने हेतु उत्साह कैसे बनाकर रखेगें। मोहल्ला क्लास सिखाने वाले शिक्षक जोखिम के बीच सिखाना। बच्चों कि रूचि पर विशेष ध्यान देने कि विभिन्न बिन्दुओं पर चर्चा |

भाजपा को अब “महंगाई डायन” लग रही है “इंद्र की अप्सरा” -राशि महिलांग

पढ़ई तुंहर दुआर के तहत मोहल्ला कक्षा सेतु अभियान के संबंध में राज्य स्तरीय वेबीनार

सेतु अभियान पाठ्यक्रम के सम्बंध में सहा.प्राध्यापक (SCERT) डॉ.विद्यावती चन्द्राकर द्वारा यह बताया कि बच्चों की सीखने की गति जो धीमी या रूक गई है। बच्चे कैसे सीखे पूर्व ज्ञान को जोड़ने के लिए कक्षा 1-8 तक सेतु पाठ्यक्रम बनाया गया तथा इसमें (Los) सीखने के प्रतिफल के बारे में जानकारी दिये।  व्याख्याता (SCERT) विद्या डांगे द्वारा आकलन के बारे में जानकारी दिये है कि पारा मोहल्ला क्लास द्वारा बच्चों का आकलन करना होगा,पूरे सत्र में 3 बार होगा 1. बेस लाइन 2. मिड लाइन 3. एण्ड लाइन बेस लाइन में सेतु पाठ्यक्रम के द्वारा पढ़ाना, मिड लाइन और एण्ड लाइन में पाठ्यपुस्तक के पाठ्यक्रम के द्वारा पढ़ाना होगा।

नगर में खुलेआम चल रहे नशे के कारोबार को लेकर भाजयुमो ने SP को सौपा ज्ञापन

आलकन के सम्बंध में बच्चे में दक्षताऐं प्राप्त कर सकते है। बच्चों में सिखने का स्तर ग्रेडिंग के माध्यम से पता लगाया जा सकता है कि बच्चा कौन से स्तर का है जैसे निम्न स्तर का है तो उसको उपचारात्मक शिक्षा देने का प्रयास करना चाहिए।

कांपा के कब्रिस्तान में होगा शेड निर्माण, समाज के पदाधिकारियों ने जताया आभार

उप संचालक उमेश साहू के द्वारा समापन के दौरान कहा गया सभी को सम्बोधन करते हुए कहा सभी लोग धरातल से जुड़ कर मोहल्ला क्लास को आगे तक ले जाना है। तभी छत्तीसगढ़ शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ेगा। स्टेट मीडिया सेंटर के नोडल अधिकारी  प्रशान्त पाण्डेय के द्वारा कहा गया पढ़ाई के लिए समय निर्धारित नही है जैसे – छत्तीसगढ़ कहावत पढ़बों कोनो मेर कतको बेर, मोहल्ला क्लास में पढ़ व न वा छत्तीसगढ़ गढ़व सहित रोचक कहावतों के साथ उन्होंने कार्यक्रम का सफलतापूर्वक संचालन किया।

हमसे जुड़े :–dailynewsservices.com

Translate »