Home छत्तीसगढ़ भगवान जगन्नाथ मंदिर में छेरापहरा की रस्म पूरी कर प्रदेशवासियों की सुख,...

भगवान जगन्नाथ मंदिर में छेरापहरा की रस्म पूरी कर प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि की कामना की CM बघेल ने

Raipur:-मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गायत्री नगर स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर Lord Jagannath Temple में छेरापहरा की रस्म पूरी कर सोने की झाड़ू से बुहारी लगाकर रथ यात्रा की शुरुआत की। इसके पहले मुख्यमंत्री ने यज्ञशाला के अनुष्ठान में सम्मलित हुए और हवन कुण्ड की परिक्रमा कर पूजा-अर्चना की। उन्होंने जगन्नाथ मंदिर में महाप्रभु जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की आरती कर प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि और खुशहाली तथा प्रदेश में अच्छी बारिश की कामना की।

उल्लेखनीय है कि भगवान जगन्नाथ ओडिशा और छत्तीसगढ़ Odisha and Chhattisgarh की संस्कृति से समान रूप से जुड़े हुए हैं। रथ-दूज का यह त्यौहार ओडिशा की तरह छत्तीसगढ़ की संस्कृति का भी अभिन्न हिस्सा है। छत्तीसगढ़ के शहरों में आज के दिन भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। उत्कल संस्कृति और दक्षिण कोसल की संस्कृति के बीच की यह साझेदारी अटूट है।

भगवान श्रीराम के वनवास काल की स्मृतियों को सहेजने तीर्थों का हो रहा है कायाकल्प

जगन्नाथ मंदिर में छेरापहरा की रस्म पूरी कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की CM ने

ऐसी मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ का मूल स्थान छत्तीसगढ़ का शिवरीनारायण-तीर्थ है। यहीं से वे जगन्नाथपुरी जाकर स्थापित हुए। शिवरीनारायण में ही त्रेता युग में प्रभु श्रीराम ने माता शबरी के मीठे बेरों को ग्रहण किया था। यहाँ वर्तमान में नर-नारायण का मंदिर स्थापित है। शिवरीनारायण में सतयुग से ही त्रिवेणी संगम रहा है, जहां महानदी, शिवनाथ और जोंक नदियों का मिलन होता है।

छत्तीसगढ़ में भगवान जगन्नाथ से जुड़ा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र देवभोग भी है। भगवान जगन्नाथ शिवरीनारायण से पुरी जाकर स्थापित हो गए, तब भी उनके भोग के लिए चावल देवभोग से ही भेजा जाता रहा। देवभोग के नाम में ही भगवान जगन्नाथ की महिमा समाई हुई है।

जीवतरा में हुए अंधे कत्ल का हुआ खुलासा,बेटा ही निकला पिता का हत्यारा

जगन्नाथ मंदिर में छेरापहरा की रस्म पूरी कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की CM ने

बस्तर का इतिहास भी भगवान जगन्नाथ से अभिन्न रूप से जुड़ा हुआ है। सन् 1408 में बस्तर के राजा पुरुषोत्तमदेव ने पुरी जाकर भगवान जगन्नाथ से आशीर्वाद प्राप्त किया था। उसी की याद में वहां रथ-यात्रा का त्यौहार गोंचा-पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस त्यौहार की प्रसिद्धि पूरे विश्व में है। उत्तर-छत्तीसगढ़ में कोरिया जिले के पोड़ी ग्राम में भी भगवान जगन्नाथ विराजमान हैं।

वहां भी उनकी पूजा अर्चना की बहुत पुरानी परंपरा है।

उज्जैन में भगवान महाकालेश्वर का दर्शन करेगे राष्ट्रपति 29 मई को

ओड़िशा की तरह छत्तीसगढ़ में भी भगवान जगन्नाथ के प्रसाद के रूप में

चना और मूंग का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस प्रसाद

से निरोगी जीवन प्राप्त होता है। जिस तरह छत्तीसगढ़ से निकलने वाली

महानदी ओडिशा और छत्तीसगढ़ दोनों को समान रूप से जीवन देती है,

उसी तरह भगवान जगन्नाथ की कृपा दोनों प्रदेशों को समान रूप से मिलती रही है।

हमसे जुड़े :-

आपके लिए /छत्तीसगढ़/महासमुन्द

भाषा बदले »