Home देश केन्द्रीय मंत्रिमंडलीय ने 21-22 के सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य...

केन्द्रीय मंत्रिमंडलीय ने 21-22 के सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में की वृद्धि

धान (सामान्य)  1868 से 1940 रुपए धान (ग्रेड ए) 1888  से 1960 रुपए हुआ

दिल्ली-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) ने कृषि उपज की सरकारी खरीद, सीजन 2021-22 के लिए सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी को स्वीकृति दे दी है।

सरकार ने किसानों को उनकी उपज के लिए लाभकारी मूल्य सुनिश्चित करने के उद्देश्य से सरकारी खरीद, सीजन 2021-22 के लिए खरीफ फसलों के एमएसपी में बढ़ोतरी की है। बीते साल की तुलना में सबसे ज्यादा तिल यानी सेसामम (452 रुपये प्रति क्विंटल) और उसके बाद तुअर व उड़द (300 रुपये प्रति क्विंटल) के एमएसपी में बढ़ोतरी की सिफारिश की गई। मूंगफली और नाइजरसीड के मामले में, बीते साल की तुलना में क्रमशः 275 रुपये और 235 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की गई है। मूल्यों में इस अंतर का उद्देश्य फसल विविधीकरण को प्रोत्साहन देना है।

विपणन सीजन 2020-21 के लिए खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य लिस्ट जारी

सुगंधित एवं फोर्टिफाइड धान के उत्पादन 10 हजार रूपए की मिलेगी इनपुट सब्सिडी
fail foto

डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरिज ने DRDO की 2-डीजी दवा को सैशे में किया लांच

कृषि उपज की सरकारी खरीद, सीजन 2021-22 के लिए सभी खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य इस प्रकार है फसल एमएसपी 2020-21 से एमएसपी 2021-22-

धान (सामान्य)  1868 से 1940 धान (ग्रेड ए) 1888  से 1960, ज्वार (हाइब्रिड) 2620से 2738 ज्वार (मलडंडी) 2640 से 2758, बाजरा  2150 से 2250, रागी 3295 से 3377, मक्का 1850 से 1870  तुअर (अरहर) 6000 से 6300, मूंग 7196 से 7275, उड़द 6000 से 6300, मूंगफली 5275से 5550 , सूरजमुखी के बीज 5885 से 6015, सोयाबीन (पीली) 3880 से 3950, तिल 6855 से 7307, नाइजरसीड 6695 से 6930 कपास (मध्यम रेशा) 5515 से 5726,कपास (लंबा रेशा) 5825 से 6025 हुई है धान (ग्रेड ए), ज्वार (मलडंडी) और कपास (लंबे रेशे) के लिए लागत के आंकड़े को अलग से शामिल नहीं किया गया है।

पिछले कुछ साल के दौरान तिलहनों, दालों और मोटे अनाज के पक्ष में एमएसपी में बदलाव की दिशा में हुए ठोस प्रयासों का उद्देश्य किसानों को अपने खेतों के ज्यादा हिस्से में इन फसलों को लगाने और सर्वश्रेष्ठ तकनीकों व कृषि विधियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है, जिससे मांग-आपूर्ति में संतुलन कायम किया जा सके। पोषण संपन्न पोषक अनाजों पर जोर ऐसे क्षेत्रों में इनके उत्पादन को प्रोत्साहन देना है, जहां भूजल पर दीर्घकालिक विपरीत प्रभावों के बिना धान-गेहूं पैदा नहीं किए जा सकते हैं।

खरीफ फसल योजना का लाभ के लिए क्रियान्वयन का होना है ज्यादा जरुरी- अमृता नरेन्द्र

केन्द्रीय मंत्रिमंडलीय ने 21-22 के सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की वृद्धि
fail foto

दालों के उत्पादन में आत्मनिर्भरता हासिल करने के उद्देश्य से, आगामी खरीफ सीजन 2021 में कार्यान्वयन के लिए विशेष खरीफ रणनीति तैयार की गई है। तुअर, मूंग और उड़द के लिए रकबा और उत्पादकता दोनों बढ़ाने के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की गई है। इस रणनीति के तहत, बीजों की सभी उपलब्ध अधिक उपज वाली किस्मों (एचवाईवी) को सहरोपण और एकल फसल के माध्यम से रकबा बढ़ाने के लिए मुफ्त वितरित किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ में एक-दो दिनों में मानसून के सक्रिय होने की संभावना

इसी प्रकार, तिलहनों के लिए भारत सरकार ने खरीफ सीजन 2021 में किसानों को मिनी किट्स के रूप में बीजों की ऊंची उपज वाली किस्मों के मुफ्त वितरण की महत्वाकांक्षी योजना को मंजूरी दी है। विशेष खरीफ कार्यक्रम से तिलहन के अंतर्गत अतिरिक्त 6.37 लाख हेक्टेयर क्षेत्र आ जाएगा और इससे 120.26 लाख क्विंटल तिलहन और 24.36 लाख क्विंटल खाद्य तेल पैदा होने की संभावना है।

हमसे जुड़े :–https://dailynewsservices.com/

Translate »