Home खास खबर कायाकल्प योजना में जिला अस्पताल बलौदाबाजार ने अर्जित किए सर्वोच्च अंक

कायाकल्प योजना में जिला अस्पताल बलौदाबाजार ने अर्जित किए सर्वोच्च अंक

जिला अस्पताल बलौदाबाजार गढ़ रहा गुणवत्ता के नए आयाम

22
0

Baloudabajar:-कायाकल्प योजना में जिला अस्पताल ने सर्वोच्च अंक अर्जित किया है। अपनी स्थापना के बाद से ही आम जनता को न केवल बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने की ओर अग्रसर है। बल्कि विभिन्न प्रकार की उत्कृष्टता बाबत अपनाए गए मापदंडों पर भी सतत रूप से खरा उतर कर सफलता के नए आयाम स्थापित कर रहा है।

इस कड़ी में स्वच्छ अस्पताल हेतु चल रही कायाकल्प योजना में एक बार पुन: जिला अस्पताल ने सफलतापूर्वक अपना स्थान बनाया है तथा शासन द्वारा पुरस्कृत किए जाने की घोषणा की गई है। योजना अंतर्गत वर्ष 2021-22 के लिए हुई पुरस्कारों की घोषणा में जिला अस्पताल को राज्य स्तर पर कंसिस्टेंसी पुरस्कार प्राप्त हुआ है।

जिला हॉस्पिटल बलौदाबाजार में जल्द ही मिलेंगी डायलिसिस की सुविधा

कायाकल्प योजना में जिला अस्पताल बलौदाबाजार ने अर्जित किए सर्वोच्च अंक

यहाँ विशेष बात यह है कि अस्पताल को मूल्यांकन में प्रथम स्थान प्राप्त बीजापुर Bijapur और रनर अप रहे कवर्धा Kavrdha से भी अधिक 89.9 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए हैं जो की सर्वाधिक हैं । चूँकि बलौदबाजार गत वर्ष भी पुरस्कृत हुआ था ऐसे में अन्य संस्थानों को अवसर देते हुए जिला अस्पताल को कंसिस्टेंसी पुरस्कार प्रदान किया गया ।

कायाकल्प स्वच्छ अस्पताल योजना अंतर्गत प्रदेश में संचालित स्वास्थ्य संस्थाओं का कुल छ: मानकों अस्पताल का रखरखाव, साफ- सफाई ,वेस्ट प्रबंधन,संक्रमण नियंत्रण, सपोर्ट सुविधाएं और हाइजीन प्रमोशन पर किये गए कार्य हेतु मूल्यांकन किया जाता है।

पत्नी व ससुराल में झूठी नौकरी लगने का झांसा देकर ठगी करने वाला दामाद गिरफ्तार

जिला अस्पताल बलौदाबाजार 2018 और 2021 में राज्य स्तर पर द्वितीय पुरस्कार प्राप्त कर चुका है ।

2019 और 2020 में सांत्वना एवं 2022 में कंसिस्टेंसी पुरस्कर शासन द्वारा प्रदान किया गया।

इस प्रकार जिला अस्पताल वर्ष 2018 से लगातार पुरस्कार की किसी न किसी श्रेणी में उपस्थित है।

जिला अस्पताल की उपलब्धि केवल कायाकल्प योजना अंतर्गत ही सीमित नहीं है

अपितु अस्पताल ने राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन प्रमाण पत्र में भी अपना स्थान बनाया है।

हमसे जुड़े :-

आपके लिए /छत्तीसगढ़/महासमुन्द

 

भाषा बदले »