Home खास खबर आदि महोत्सव ने दिल्लीवासियों के जीते दिल,60 लाख रुपये से अधिक की...

आदि महोत्सव ने दिल्लीवासियों के जीते दिल,60 लाख रुपये से अधिक की हुई बिक्री

आदि महोत्सव एक मिनी-इंडिया है, जहां आदिवासी कारीगरों की उत्कृष्ट शिल्प परंपराएं - बुनकर, कुम्हार, कठपुतली और कढ़ाई करने वाले - सभी एक ही स्थान पर उपलब्ध हैं

दिल्ली-भारत आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और आदि महोत्सव ने दिल्लीवासियों के अनेक दिल जीते हैं, यह उस भीड़ से स्पष्ट था जो 16 नवंबर 2021 से राष्ट्रीय जनजातीय महोत्सव में उमड़ रही है। प्रतिदिन आगंतुकों की संख्या 10,000 से अधिक और 20,000 तक पहुंचने का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है। आदि महोत्सव में 60 लाख रुपये से अधिक की रिकॉर्ड बिक्री दर्ज की गई, जो आदि महोत्सव के किसी भी संस्करण में हुई सबसे अधिक बिक्री है।

देश भर के 200 से अधिक स्टालों और लगभग 1000 कारीगरों तथा कलाकारों ने अपनी अनूठे अनुभवों के साथ इसमें भाग लिया है और यह जनजातीय महोत्सव आदिवासियों को मुख्यधारा में लाने का एक तरीका है। जनजातीय जीवन के मूल लोकाचार का प्रतिनिधित्व करते हुए नई दिल्ली के दिल्ली हाट में वर्तमान में चल रहे इस पाक्षिक उत्सव में देश के 28 राज्यों के आदिवासी हस्तशिल्प, कला, चित्रकारी, कपड़े एवं आभूषणों की प्रदर्शनी-सह-बिक्री होती है और यह उनके समृद्ध जनजातीय व्यंजनों में एक रिंगसाइड दृश्य प्रस्तुत करता है।

झारखंड के CM को राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में शामिल होने का न्यौता

आदि महोत्सव ने दिल्लीवासियों के जीते दिल,60 लाख रुपये से अधिक की हुई बिक्री

आदि महोत्सव एक मिनी-इंडिया है, जहां आदिवासी कारीगरों की उत्कृष्ट शिल्प परंपराएं – बुनकर, कुम्हार, कठपुतली और कढ़ाई करने वाले – सभी एक ही स्थान पर उपलब्ध हैं। आदि महोत्सव में कलाकृतियों की एक विस्तृत श्रृंखला है- जैसे वार्ली शैली या पट्टाचित्र चित्रकारी में हो; दक्षिण से प्रसिद्ध टोडा कढ़ाई के लिए वांचो और कोन्याक जनजातियों से मनके हार के लिए डोकरा शैली में दस्तकारी के आभूषण; निकोबार द्वीप समूह के शुद्ध नारियल के तेल से लेकर पूर्वोत्तर के बहु-स्वाद वाले न्यूट्री-पेय पदार्थों तक; रंगीन कठपुतलियों और बच्चों के खिलौनों से लेकर पारंपरिक बुनाई जैसे डोंगरी शॉल, बोडो बुनाई, राजस्थान से कोटा डोरिया; बस्तर से लोहे के शिल्प से लेकर बांस के शिल्प और बेंत के फर्नीचर तक; मणिपुर की नीली मिट्टी के बर्तन और लोंगपी मिट्टी के बर्तन; इतना सबकुछ यहां उपलब्ध है।

तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सिरपुर बौद्ध महोत्सव एवं शोध संगोष्ठी का हुआ समापन

आदि महोत्सव ने दिल्लीवासियों के जीते दिल,60 लाख रुपये से अधिक की हुई बिक्री

इस महोत्सव का एक आकर्षण इसके विशेष समारोह और प्रदर्शन रहे हैं, जो कई दिनों से आयोजित किए गए हैं। इनमें खेल व्यक्तिव दिवस, रक्षा दिवस, पर्यटन और मीडिया दिवस शामिल हैं। इसके अलावा, उत्सव के एक भाग के रूप में, ग्रामीण विकास चेतना संस्थान, बाड़मेर द्वारा एक भव्य फैशन शो आयोजित करने की योजना 28 नवंबर को निर्धारित की गई है। हाथकरघा और हस्तशिल्प तथा प्राकृतिक उत्पादों की खरीदारी के अलावा, यहां आदिवासी व्यंजनों का बेहतरीन स्वाद भी चखा जा सकता है और इस महोत्सव में आदिवासी कलाकारों के प्रदर्शन का आनंद लिया जा सकता है।

हमसे जुड़े :–https://dailynewsservices.com/

Translate »