महासमुन्द :कलेक्टर सुनील कुमार जैन एवं पुलिस अधीक्षक  जितेन्द्र शुक्ल ने आज जिला पंचायत के सभाकक्ष में धान खरीदी केन्द्र प्रभारी, अध्यक्ष, समिति प्रबंधक, ऑपरेटर सहित अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों की संयुक्त रूप से बैठक ली। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन द्वारा 01 दिसम्बर से 15 फरवरी तक समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का कार्य समितियों के माध्यम से किया जाएगा.

यहाँ पढ़े :जिले के बेरोजगारों को विभिन्न ट्रेडों में दिया जाएगा प्रशिक्षण-

कलेक्टर जैन ने कहा कि अन्य राज्यों की अपेक्षा राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर 2500 रू. क्विंटल में धान खरीदी का कार्य किया जाएगा। महासमुंद जिला सीमावर्ती उड़ीसा राज्य के सीमा से लगे होने के कारण समिति में कोचियों, बिचौलियों के माध्यम से खरीदी केन्द्रों पर अवैध रूप से धान नहीं आना चाहिए। इसका विशेष रूप से ध्यान रखने की जरूरत हैं। यदि कोचियों एवं बिचौलियों द्वारा समिति में धान खपाते हुए पाया जाता है और इसमें समिति कर्मचारियों की संलिप्तता पाई जाती हैं तो पुलिस में अपराधिक प्रकरण दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करवाकर जेल भेजने की कार्रवाई की जाएगी। सभी खरीदी केन्द्रों में प्रतिदिन स्टॉक का भौतिक सत्यापन किया जाएगा, भौतिक सत्यापन में स्टॉक कम पाये जाने की स्थिति में समिति कर्मचारी के विरूद्ध एफ आई आर दर्ज कराई जाएगी। उन्होंनें धान की सुरक्षा के लिए डनेज, कैप कव्हर की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं.

यहाँ पढ़े :मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को फिर लिखा पत्र छत्तीसगढ़ में 2500 रूपए प्रति क्विंटल दर पर धान खरीदने पुनः किया आग्रह-

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक  शुक्ल ने कहा कि समिति के कर्मचारी, अधिकारी ईमानदारी पूर्वक कार्य करें तो बाहर के धान खरीदी केन्द्रों पर किसी भी स्थिति में नहीं आ सकती। इसके लिए उन्हें ईमानदार होकर कार्य करने की जरूरत हैं। उन्होंनें कहा कि धान खरीदी के कार्य में सबसे बड़ी जिम्मेदारी समिति की होती है। इसके लिए उन्हें विशेष सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंनें स्पष्ट तौर पर कहा है कि जो कर्मचारी, अधिकारी धान खरीदी कार्य पर गलत कार्य करते संलिप्तता पाई जाती हैं या लापरवाही बरतते हैं, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए उन्हें सीधा जेल भेजा जाएगा। संबंधित क्षेत्र के थाना प्रभारी कभी भी समिति में जाकर स्टॉक जांच कर सकते हैं। स्टॉक और रजिस्टर में एंट्री पर अंतर पाये जाने की स्थिति पर भी कठोर की जाएगी। इस अवसर पर जिला खाद्य अधिकारी अजय कुमार यादव, डीएमओ  संतोष पाठक, प्रभारी उप पंजीयक  जी.एस. शर्मा सहित अन्य जमीनी स्तर के अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here