Home क्राइम चोरी की 7 मोटरसाइकिल के साथ दो आरोपी को किया गया गिरफ्तार

चोरी की 7 मोटरसाइकिल के साथ दो आरोपी को किया गया गिरफ्तार

12
0

Mahasamund:-चोरी के मोटरसाइकिल बेचने के लिए ग्राहक तलाश करते हुए बसना पुलिस ने दो 2 आरोपी को गिरफ्तार किया है। दोनो आरोपियो से चोरी हुए 7 नग अलग अलग मोटरसाइकिल बरामद किया है। थाना बसना में इस्तगाशा क्रमांक 01/2022 धारा 41(1+4)जाफौ0, 379 भादवि0 के तहत् कार्यवाही की गयी।

कार्यालय पुलिस अधीक्षक से मिली जानकारी के अनुसार 02 सितम्बर को मुखबिर से सूचना मिली कि दो व्यक्ति जगदीशपुर रोड ओव्हरब्रीज के नीचे बसना मे चोरी की मोटर सायकल को बिक्री करने के उद्देश्य से ग्राहक की तलाश मे है। उक्त सूचना पर थाना बसना की टीम द्वारा मुखबीर सूचना एवं उनके निशानदेही पर मौका पहुचकर ओव्हरब्रीज के पास पहुच कर घेराबंदी की गई।

इस मामले मे बिसीकेसन सारथी पिता मोहित सारथी (28) व प्रदीप गिरी पिता जलंधर गिरी (28) निवासी तिलंजनपुर थाना सांकरा  द्वारा मोटर सायकल को चोरी कर बिक्री करने के लिए ग्राहक की तलाश कर रहे थे इसके अलावा अन्य मोटर सायकल भी चोरी किये है जो अपने घर मे छुपा कर रखे थे । आरोपीयों से पूछताछ पर बताए कि दोनो साथ मिलकर वाहन मोटर सायकल पैशन प्रो को पिथौरा तथा शेष वाहनो को सरायपाली के शराब दुकान के पास तथा पदमपुर रोड से चोरी करना बताए।

जप्त वाहन इस प्रकार है:-

(1.) CT110 बिना नंबर ग्रे रंग का चेचिस MBLHA10AMD9B10073 इंजन नंबर HA10EJD9B13337 ।
(2.) मोटर सायकल HF डिलक्स क्रमांक CG 06 GH 6040।
(3.) बिना नंबर HF डिलक्स मोटर सायकल जिसका चेचिस नंबर MBLAR239J4J06257 इंजन नंबर HA11TNJ4J12709 ।
(4.) एक बिना नंबर काला रंग का हीरो स्प्लेंडर जिसका चेचिस नंबर MBLHA10AMD9B10073 इंजन नंबर HA10EJD9B13337 ।
(5.) एक पैसन प्रो काले रंग का क्रमांक CG 06 GN 7203।
(6.) एक काला रंग का एक्टीवा क्रमांक CG 04 MA 3138 ।
(7.) एक काला रंग का एक्टीवा बिना नंबर जिसमे इंजन नंबर JF50E83101020 बरामद किया गया है।

उक्त कार्यवाही पुलिस अधीक्षकभोजराम पटेल (IPS) के मार्गदर्शन में अति0 पुलिस अधीक्षक आकाश राव एवं अनु0अधिकारी (पु) सरायपाली विकास पाटले के निर्देशन मे थाना प्रभारी बसना निरीक्षक कुमारी चन्द्राकर, विजय मिश्रा, कमलेश ध्रुव, किशोर साहू, सूरज निराला, नरेश बरिहा, धनाराम कुर्रे द्वारा की गई।

हमसे जुड़े :

आपके लिए /छत्तीसगढ़/महासमुन्द

भाषा बदले »