कोरोना के कहर से पाया निजात राजकुमार PM स्ट्रीट वेन्डर्स योजना बना जीने का सहारा

कभी वो शून्य को ताकता तो कभी सूनी गलियों को निहारता,हितैषी योजना बनी उसका सहारा

महासमुंद – कोरोना ने हर तरफ कहर ढाया, रोज कमानें वालें लोगों को रोजी-रोटी की समस्या भी हुई। महासमुन्द के रोज कमानें वालें लोग भी इससे अछूते नहीं रहें। उनमें से एक फुटकर आलू-प्याज विक्रेता राजकुमार टण्डन को भी कोरोना कोविड-19 की मार छेलनी पड़ी। दुकान बंद और बिक्री भी कम थी। स्थानीय व्यापारी भी उधारी में आलू-प्याज देनें में आनाकानी कर रहें थे।

माॅ और दो बेटों का भार भी उसी के कंधों पर था। उनकी पत्नी की मृत्यु लगभग 16 साल पहले हो गई थी। चार लोगों के जीवन-यापन का साधन, बच्चों की शिक्षा-दीक्षा, माॅ की ईलाज आदि का खर्चा उठानें में काफी दिक्कत हो रही थी। इस काल में उसके दुःखों पर मरहम लगानें वाला कोई नहीं था। कभी शून्य को ताकता तो कभी सूनी गलियों को निहारता। कोरोना संक्रमण के चलतें उसकी सब्जी की दुकान भी प्रभावित हुई। रोजी-रोटी की समस्या भी उत्पन्न होने लगी। राज्य शासन द्वारा कराए जा रहें राशन का ही सहारा था। उसी से गुजर-बसर हो रही थी।

वॉइसबोट सुविधा देने वाली देश की पहली कंपनी बनी मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी

शासन की पथ विक्रताओं के लिए चलाए जा रही योजना  राजकुमार के लिए इस विपत्ति में सहारा बनी। प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेन्डर्स आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत् राजकुमार ने नगरपालिका महासमुन्द जाकर आनलाईन फाॅर्म भरा एवं उसे एसबीआई से 10,000 रूपए का ऋण मिला। राशि मिलते ही उन्होंने अपनी आलू-प्याज की दुकान पुनः शुरू की और अब उनकी दुकान आलू-प्याज की पर्याप्त मात्रा है।

18 रूटों पर 157 किसान रेल सेवाएं संचालित कर रही है भारतीय रेलवे

वह प्रतिदिन सेल कर 250 से 400 रूपए की मुनाफा कमा लेते है। राज्य और केन्द्र शासन की

योजनाओं से उन्हें पुनः जीवनदान मिला। अब वह बचत राशि के

साथ-साथ अपनी माॅ का ईलाज करानें में भी सझम हो गए है।

राजकुमार समय पर बैंक की किस्त भी अदा कर रहें है।

अब वह समय के साथ आगे बढ़ रहें हैं। योजनाओं के अन्य लाभ

जैसे ग्राहकों की सुविधा के लिए उनकी आलू-प्याज की दुकान में

पेटीएम, गूगल पे डिजीटल भुगतान आदि की सुविधा भी ले रखी है।

हमसे जुड़े :–dailynewsservices.com

WatsApp FLvSyB0oXmBFwtfzuJl5gU

TwitterDNS11502659

Facebookdailynewsservices