12.90 करोड़ रुपये के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट के दावा करने के आरोप में 3 गिरफ्तार

0
100
831.72 करोड़ रुपये की कर चोरी के आरोप में एक व्यक्ति गिरफ्तार

दिल्ली-जीएसटी सतर्कता महानिदेशालय (डीजीजीआई) उत्तरी क्षेत्र, गुरुग्राम ने तीन लोगों को फर्जी तरीके से इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावाकरने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों में आलोक भार्गव और उनके दो पुत्र अकुल और अतिन भार्गव के नाम शामिल हैं। जो कि नई दिल्ली के वजीरपुर में स्थित मैसर्स दिल्ली फ्यॉल्स और मैसर्स एबिनॉक्स इंडस्ट्री और मैसर्स मैटालैक्स इंडस्ट्रीज के मालिक हैं।

गणतंत्र दिवस परेड में दिखेगा छत्तीसगढ़ के लोक संगीत का वाद्य वैभव

12.90 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा

तीनों कंपनियों ने मिलकर ऐसी कंपनियों के करीब 72 करोड़ रुपयों के इन्वॉयस बनाए हैं, जिनका वजूद ही नहीं है। जिसके जरिए करीब इनपुट टैक्स क्रेडिट में 12.90 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा किया है। इस फर्जीवाड़े में कंपनियों ने ऐसे मैटेरियल के रसीद बना दी थी, जो कि उन्होंने खरीदा ही नहीं था।

इनपुट टैक्स क्रेडिट में धोखाधड़ी,सरकारी खजाने से निकाले लगभग 61 करोड़ रुपये

12.90 करोड़ रुपये के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट के दावा करने के आरोप में 3 गिरफ्तार

फर्जी चालान रैकेट और धोखाधड़ी से इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाने में लिप्‍त 2लोग गिरफ्तार

14 दिन की न्यायिक हिरासत

इस आधार पर आलोक भार्गव और उनके पुत्रों अकुल और अतिन भार्गव ने सीजीएसटी कानून, 2017 के सेक्शन 132 (1)(सी) का उल्लंघन किया है। जो कि सीजीएसटी कानून 2017 के सेक्शन के 132 (5) के अनुसार एक संज्ञेय और गैर जमानती अपराध है। जो सीजीएसटी कानून 2017 के सेक्शन 132 (1) (आई) के तहत दंडनीय अपराध है।

इस आधार पर 30 दिसंबर 2020 को  आलोक भार्गव और उनके पुत्रों अकुल और अतिन भार्गव को सीजीएसटी कानून 2017 के सेक्शन 69 (1) के तहत गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तारी के बाद इन लोगों को नई दिल्ली के पटियाला हाउस में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया और उनको 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इस संबंध में आगे की जांच जारी है ।

देश के 23 राज्यों व् 8 केंद्र शासित प्रदेशों में नौकरी के लिए interview समाप्त

हमसे जुड़े :–dailynewsservices.com

WatsApp- FLvSyB0oXmBFwtfzuJl5gU

Twitter –DNS11502659

Facebook –dailynewsservices