पश्चिम बंगाल: दक्षिण 24 परगना में नामखाना क्षेत्र में चक्रवात बुलबुल की चपेट में आने के बाद हटानिया दोनिया नदी में दो जेटी क्षतिग्रस्त हो गई है.चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ के कारण  पश्चिम बंगाल में  रविवार सुबह तक तेज हवाओं के साथ भारी बारिश  हुई, जिससे शहर के कई हिस्सों और राज्य के तटीय जिलों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. बुलबुल तूफान के कारण बंगाल में अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है.

जानकारी के मुताबिक, बशीरहाट और उत्तर 24 परगना जिले में बारिश से जुड़ी घटनाओं में जिन आठ लोगों की मौत हुई है, उनमें बशीरहाट और हिंगलगंज में दो-दो, जबकि संदेशखाली, गोसाबा और नंदीग्राम में तीन महिलाओं ने अपनी जान गंवा दी.तूफान के साथ जोरदार बारिश और अत्यंत तीव्र हवाओं ने आज शुरू से ही राज्य में तबाही मचाई है.

हजारों पेड़ों के अलावा केबल और तार टूट गए। तूफान से अधिकांश नुकसान दक्षिणी 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिले में हुआ है.इससे इन जिलों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है.उत्तरी परगना में तूफान के दौरान अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौतें हुई हैं. पूर्वी मिदनापुर जिले में एक व्यक्ति की मौत हो गई. वह पेड़ गिरने के कारण उसकी चपेट में आ गया. इससे पहले शनिवार को एक अन्य व्यक्ति की मौत पेड़ की शाखा गिरने के कारण हुई थी.

तूफान के साथ शनिवार से राज्य के विभिन्न हिस्सों खासकर उत्तरी 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर में तेज बारिश हो रही है और 135 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवा चली थी. अधिकांश तबाही बारिश और तेज हवा के कारण हुई.हजारों पेड़ गिरने से जगह-जगह रास्ते बंद हो गए. रविवार को दोपहर बाद कुछ मौसम थोड़ा सुधरा तो लोग घरों से बाहर निकले. कोलकाता नगर निगम पुलिस और फायर विभाग के स्टाफ के साथ राष्ट्रीय आपदा एजेंसी एनडीआरएफ राहत कार्यों में लगी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here