रायपुर : नई औद्योगिक नीति: प्रदेश के विकासखण्डों को 4 श्रेणियों में बांटा गया

रायपुर-छत्तीसगढ़ शासन की नई औद्योगिक नीति के तहत औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन को बढ़ावा देने के लिए राज्य के सभी विकासखण्डों को औद्योगिक विकास एवं पिछड़ेपन की दृष्टि से क्रमशः अ, ब, स और द श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है।
नई औद्योगिक नीति के अंतर्गत विकासखण्डों का श्रेणियों में विभक्त किया गया है, जिसमें श्रेणी अ के 15 विकासखण्ड विकसित क्षेत्र में शामिल किए गए हैं। इसमें बिलासपुर जिले का बिल्हा विकासखण्ड, कोरबा जिले का कोरबा एवं पाली, रायगढ़ जिले का रायगढ़ खरसिया, दुर्ग जिले का दुर्ग एवं धमधा, राजनांदगांव जिले का राजनांदगांव, रायपुर जिले का रायपुर एवं तिल्दा, जांजगीर-चांपा जिले का अकलतरा एवं बम्हनीडीह (चांपा) और बलौदाबाजार-भाटापारा जिले का भाटापारा, सिमगा एवं बलौदाबाजार विकासखण्ड का नाम शामिल है।

https;-महामाया एग्रो ट्रेडर्स की सम्पति कुर्क कर किसानों के धान का होगा भुगतान

श्रेणी-ब का 25 विकासखण्ड विकासशील श्रेत्र में लिए गए हैं। इसमें कोरबा जिले का कटघोरा, करतला, पोडी-उपरोडा, मुंगेली जिले का पथरिया, मुंगेली और रायगढ़ जिले का घरघोडा, तमनार, पुसौर, दुर्ग जिले का पाटन, कवर्धा जिले का कवर्धा, पंडरिया, राजनांदगांव जिले का डोंगरगढ़, डोंगरगांव, खैरागढ़, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले का पलारी, धमतरी जिले का धमतरी, कुरूद, मगरलोड़, महासमुन्द जिले का महासमुन्द, सराईपाली, बागबाहरा, रायपुर जिले का अभनपुर, आरंग, बिलासपुर जिले का तखतपुर, मस्तूरी विकासखण्ड का नाम शामिल है।

https;36 गढ़ में शीघ्र लागू होगा पत्रकार सुरक्षा कानून, सुझाव लेने समिति 16 नवम्बर से प्रदेश के दौरे पर

श्रेणी-स का 40 विकासखण्ड पिछडे़ क्षेत्र में लिए गए हैं, इनमें मुंगेली जिले के लोरमी, बालोद जिले का गुंडरदेही, गुरूर, बालोद, डौण्डीलोहारा, डौंडी, बेमेतरा जिले का बेमेतरा, साजा, बेरला, नवागढ़, कवर्धा जिले का बोड़ला, सहसपुर-लोहारा, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले का बिलाईगढ़, कसडोल, धमतरी जिले के नगरी, गरियाबंद जिले का छूरा, गरियाबंद, फिंगेश्वर, महासमुन्द जिले का बसना, पिथौरा, कांकेर जिले का कांकेर, चारामा, बिलासपुर जिले का कोटा, पेण्ड्रारोड़ (गौरेला-1), पेण्ड्रा (गौरेला-2), जांजगीर-चांपा जिले का बलौदा, नवागढ़, सक्ती, जैजैपुर, मालखरौदा, डभरा, पामगढ़, रायगढ़ जिले का धरमजयगढ़, लैलूंगा, सारंगढ़, बरमकेला, राजनांदगांव जिले का छुईखदान, बस्तर जिले का जगदलपुर, सरगुजा जिले का अंबिकापुर, सूरजपुर जिले का विकासखण्ड सूरजपुर शामिल है।

https;-रायपुर:राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की तैयारियां शुरू, देशभर के आदिवासी नृत्यों की रहेगी धूम

श्रेणी-द का 66 विकासखण्ड अतिपिछडे़ क्षेत्र में लिए गए हैं। इनमें बस्तर जिले का बकावण्ड, बस्तानार, दरभा, लोहण्डीगुड़ा, बस्तर, तोकापाल, बीजापुर जिले के बीजापुर, भैरमगढ़, भोपालपट्टनम, उसूर, दंतेवाड़ा जिले का दंतेवाड़ा, गीदम, कटेकल्याण, कुआंकोण्डा, कांकेर जिले का अंतागढ़ भानुप्रतापपुर, दुर्गकोण्डल, नरहरपुर, कोयलीबेड़ा, कोण्डागांव जिले का केशकाल, कोण्डागांव, बड़ेराजपुर, माकड़ी, फरसगांव, गरियाबंद जिले का देवभोग, मैनपुर, नारायणपुर जिले का नारायणपुर, ओरछा, (अबुझमाड़), सुकमा जिले का कोंटा, छिंदगढ़, सुकमा, बिलासपुर जिले का मरवाही, राजनांदगांव जिले का मोहला, छुरिया, अंबागढ़-चौकी, मानपुर, बलरामपुर जिले के बलरामपुर, कुसमी, राजपुर, रामचन्द्रपुर, शंकरगढ़, वाड्रफनगर, जशपुर जिले का जशपुर, कुनकुरी, पत्थलगांव, बगीचा, दुलदुला, मनोरा, कांसाबेल, फरसाबहार, कोरिया जिले का मनेन्द्रगढ़, बैकुण्ठपुर, भरतपुर, खड़गवंा, सोनहत, सरगुजा जिले के लुण्ड्रा, सीतापुर, बतौली, लखनपुर, मैनपाट, उदयपुर, सूरजपुर जिले के प्रतापपुर, प्रेमनगर, भैयाथान, ओडगी, रामानुजनगर विकासखण्ड शामिल है।

https;-छत्तीसगढ़ में नई सरकार के गठन के बाद लगभग साढ़े पांच लाख लोगों को मिला रोजगार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here