महासमुंद-शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नाकोत्तर महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना के द्वारा सात दिवसीय विशेष शिविर का आयोजन दिनांक 7 दिसम्बर से नरवा गरवा घुरवा बारी थीम पर संचालित हो रहा है जिसमें प्रातः कालीन सत्र में तिलक साव  के द्वारा शिविरार्थियों को योगाभ्यास, सूर्य नमस्कार,शान्ति पाठ कराया गया.

शिविर के तृतीय दिवस 9 दिसम्बर को बौद्धिक सत्र में डॉ ए करीम( पूर्व समन्वयक गुरु घासीदास विश्वविद्यालय बिलासपुर) एवं डॉक्टर मालती तिवारी (रासेयो जिला संगठन जिला महासमुंद )की उपस्थिति में मां सरस्वती एवं विवेकानंद  की पूजा अर्चना से प्रारंभ हुआ.लक्ष्य गीत की प्रस्तुति छत्तीसगढ़ी भाषा में कुलेश्वर एवं साथियों के द्वारा की गई.

https;-सरकारी स्कूल के क्लास रूम में मिली अज्ञात व्यक्ति की जली हुई लाश

https;-चीतल शिकार के मामले में क्षेत्र रक्षक को किया गया निलंबित,एक और आरोपी गिरफ्तार

मालती तिवारी जिला संगठन रासेयो ने शिविरार्थियों को उद्बोधित करते हुवे कहा कि हमें गांव और शहर की दूरियों को कम करना है, और राष्ट्रीय सेवा योजना को दिल से अपनाना है,नरवा गरवा घुड़वा अउ बारी की जिस थीम पर सात दिवसीय विशेष शिविर का आयोजन किया गया है उसके मॉडल का निरीक्षण करते हुवे उन्होंने कहा कि हमे छत्तीसगढ़ की इस  संसस्कृति के संरक्षण , सुरक्षा एवं संवर्धन को बढ़ावा देना होगा,डॉ करीम  द्वारा रासेयो की संगठन व्यवस्था, विभिन्न राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय शिविरो, तथा निंयमित गतिविधियों व बी व सी प्रमाणपत्र की विस्तृत जानकारी प्रदान की.

https;-एनकाउंटर में मारे गए आरोपियों के शव को 13 दिसंबर तक सुरक्षित रखने का आदेश

संध्याकालीन देसी खेल में डॉक्टर ए करीम द्वारा स्वयं सेवकों को रुमाल झपट्टा, ऐसे कैसे ,कितने भाई कितने जैसे देसी खेल खिला कर स्वयं सेवकों को यह संदेश दिया कि सीमित साधनो से भी हम देसी खेल के माध्यमों से अपने शरीर तथा मस्तिष्क को स्वस्थ एवं मस्त रख सकते हैं! इस सत्र का उद्धाटन उदबोधन कार्यक्रम अधिकारी अजय कुमार राजा, संचालन प्रकाशमणि साहू आभार प्रदर्शन कार्यक्रम अधिकारी राजेश्वरी सोनी के द्वारा किया गया.

हमसे जुड़े :-

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here